July 25, 2024

TNC Live TV

No.1 News Channel Of UP

Bahraich News: बारिश से शहर से लेकर गांव जलमग्न, तालाब बना मेडिकल कॉलेज

बहराइच। लगातार हो रही बारिश से अब जनजीवन प्रभावित होने लगा है। बृहस्पतिवार की देर रात से जिले में शुरू हुई तेज बारिश शुक्रवार को पूरे दिन रुक-रुक कर होती रही। इसके चलते जहां करीब आधा दर्जन कच्चे मकान गिर गए। वहीं, मेडिकल कॉलेज तालाब में तब्दील हो गया। इस दौरान यहां मरीज भी कम पहुंचे। यहां खड़ी कार व बाइकें भी डूब गईं। वहीं लोगों के घरों में पानी भरने से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बिजली व्यवस्था भी पूरी तरह से धराशायी हो गई। बारिश के चलते शुक्रवार को जिला प्रशासन द्वारा जिले के स्कूलों में अवकाश घोषित कर दिया गया।

बारिश के चलते मोहल्ला हमजापुरा, कलक्ट्रेट काॅलोनी, बक्शीपुरा, नव्वागढ़ी, सरस्वती नगर, पुलिस लाइन, माधवरेती, कटी चौराहा, चौक बाजार, बिसात खाना, फायर स्टेशन के सामने, काजीपुरा, गुदड़ी, तिकोनीबाग चौराहा आदि इलाकों में पानी भर गया। हमजापुरा व बक्शीपुरा मोहल्ले के लगभग 300 से अधिक घरों में पानी भरने से टापू में तब्दील हो गया है। इससे यहां रहने वाली करीब 40 हजार की आबादी प्रभावित हो रही है। बचाव व राहत के लिए नगर पालिका प्रशासन की तैयारियां नाकाफी साबित हो रही है। शहर में लगे बिजली के अंडरग्राउंड बाॅक्स भी बह गए हैं।

मेडिकल कॉलेज तालाब में तब्दील
तेज बारिश से मेडिकल कॉलेज में शुक्रवार को दो से ढाई फिट तक पानी भर गया। वहीं 12 घंटे तक बिजली गुल रही, जिससे अस्पताल की स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गईं। अस्पताल परिसर में खड़ी तीमारदारों की गाड़ियां पानी में डूब गईं। अस्पताल में एक युवक का जुगाड़ की नाव चलाते हुए वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय से संबद्ध महर्षि बालार्क चिकित्सालय में बारिश का पानी के निकासी की व्यवस्था नहीं है। सड़क से अस्पताल परिसर नीचे होने के कारण पानी भर जाता है।

बिजली व्यवस्था हुई बेपटरी
बारिश के चलते पूरा शहर करीब 10 घंटे तक बिजली के लिए तरसता रहा। कुछ इलाकों में देर शाम तक आपूर्ति शुरू नहीं हो सकी है। शहर के 34 वार्डों में करीब तीन लाख से अधिक की आबादी निवास करती है। ह तेजवापुर ब्लॉक के ग्राम पंचायत डोकरी के सिलेमपुर गांव में बारिश से पानी भर गया है। यहां भी बिजली नहीं रही।

तेजवापुर में फखरपुर विद्युत उपकेंद्र के रामगढ़ी फीडर की बिजली बारिश से गुल हो गई है। तेजवापुर सब स्टेशन की सप्लाई भी बाधित हो गई। जिससे लोगों को अंधेरों में रात काटनी पड़ी। उत्तम नगर, बेडनापुर, चेतरा, गनियापुर, जिहुरा माफी, पाठक पट्टी ,कोडरी, नौशहरा, केला गांव, रतनपुर बौंडी समेत अन्य गांवों की बिजली गुल है। जिससे लगभग 10 हजार से अधिक की आबादी को परेशानी झेलनी पड़ रही है। एसडीओ धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि विद्युतकर्मी लाइन को सही करने में जुटे हुए हैं।
इसी तरह रिसिया में आपूर्ति ठप हो गई है। पयागपुर उपकेंद्र में स्थित फीडर में पानी भर जाने से देर रात से ही आपूर्ति प्रभावित है। जिसके कारण क्षेत्र की लगभग डेढ़ लाख की आबादी अंधेरे में है। सरकारी कार्यालयों में कार्य पूरी तरह से ठप हो गए। उपजिलाधिकारी दिनेश कुमार ने बताया कि पानी की निकासी के लिए तहसीलदार धर्मेंद्र कुमार और थानाध्यक्ष करुणाकर पांडेय को मौके पर भेजा गया है।

195.4 मिमी हुई बारिश
कृषि विज्ञान केंद्र के मेट्रोलॉजिस्ट इकरामुल हक ने बताया कि शुक्रवार को 195.4 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई है। जबकि आठ से नौ किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। उन्होंने बताया कि आठ जुलाई तक मौसम इसी तरह रहेगा। 100 मिमी बारिश होने के आसार हैं। डीडी कृषि टीपी शाही ने बताया कि बारिश से गन्ना किसानों को बड़ा फायदा हुआ है। उन्होंने किसानों को सलाह दी है कि जिन लोगों के मक्के की फसल में अधिक जलभराव हो गया है, वे पानी निकाल दें।

स्कूलों में भरा पानी
तेज बारिश के बाद दो दर्जन से अधिक परिषदीय विद्यालयों में पानी भर गया है। जिससे पठन-पाठन का कार्य प्रभावित हुआ। जिला प्रशासन ने शुक्रवार को स्कलों में अवकाश घोषित कर दिया। चित्तौरा ब्लॉक क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय धरसवां में बरसात का पानी भरा हुआ है। इसके अलावा उच्च प्राथमिक विद्यालय पिपरी मोहन, प्राथमिक विद्यालय गंधिला पूरे गंगा प्रसाद, प्राथमिक विद्यालय भवानीपुर, उच्च प्राथमिक विद्यालय बकैना आदि स्कूलाें में भी बारिश के बाद जलभराव हो गया है।

28 पंप लगाकर कराई जलनिकासी

बारिश के दौरान शहर के हमजापुरा व बख्शीपुरा मोहल्ला टापू में तब्दील हो गया है। इसके अलावा जिला चिकित्सालय, चौक बाजार समेत शहर के कई इलाके जलमग्न हो गए हैं। नगर पालिका की चेयरमैन सुधादेवी के निर्देश पर शुक्रवार की सुबह नगर पालिका के सफाई निरीक्षक सुरेश गोविंद व सफाई नायक फहीम खान की अगुवाई में सफाईकर्मियों की टीम ने जलभराव वाले स्थानों पर पंप, सेक्शन मशीन, जेटिंग मशीन लगाकर दोपहर बाद काफी मशक्कत से जलभराव से कुछ हद तक निजात दिलाया। ईओ प्रमिता सिंह ने बताया कि शुक्रवार की तेज बारिश के बाद हुए जलभराव को देखते हुए पालिकाकर्मियों की टीम को जलभराव वाले स्थानों पर भेजकर नगर पालिका की तीन व किराए की दो सेक्शन मशीन, 28 पंप व एक जेटिंग मशीन को लगाकर जलनिकासी की व्यवस्था बनाई गई है।

About The Author

error: Content is protected !!