July 25, 2024

TNC Live TV

No.1 News Channel Of UP

अविश्वास प्रस्ताव के डर से सीएम दरबार पहुंचे यमुनापार के सात ब्लॉक प्रमुख, सियासी उठापटक तेज

लोकसभा चुनाव में इलाहाबाद सीट पर भाजपा की पराजय के बाद यमुनापार की सियासी प्याली में तूफान आ गया है। हार के कारणों की समीक्षा में भाजपा ने भितरघात के अलावा कुछ नेताओं-कार्यकर्ताओं की निष्कियता को अहम कारण के रूप में गिनाया है। इन सबके बीच यमुनापार के सात ब्लॉक प्रमुखों के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए हस्ताक्षर अभियान शुरू करा दिया गया है। कुर्सी बचाने के लिए इन ब्लॉक प्रमुखों ने सीएम योगी आदित्यनाथ की शरण ली है।

कहा जा रहा है कि इनमें से ज्यादातर सपा के समर्थन से ही जीते थे। बाद में भाजपा का दामन थाम लिया था। स्थानीय निकाय विधान परिषद चुनाव में इन ब्लॉक प्रमुखों ने भाजपा का समर्थन किया था। अब लोकसभा चुनाव के दौरान यमुनापार में भाजपा के हारने के बाद जहां एक ओर भितरघात के लिए कई बड़े नेताओं को चिह्नित किया गया है, वहीं सपा से भाजपा में आए ब्लॉक प्रमुख पर अविश्वास की तलवार लटकने लगी है।

अविश्वास प्रस्ताव के लिए हस्ताक्षर अभियान शुरू हो गया है। करछना ब्लॉक में 50 से अधिक बीडीसी सदस्यों के हस्ताक्षर अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए करा लिया गया है। इसी तरह मेजा, कौंधियारा, मांडा, कोरांव और चाका में भी हस्ताक्षर अभियान चलाया जा रहा है। भाजपा में इन ब्लॉक प्रमुखों की भूमिका की पड़ताल की जा रही है। इस बीच इन ब्लॉक प्रमुखों ने लखनऊ में सीएम योगी आदित्यनाथ से मिलकर अविश्वास प्रस्ताव के बचाने की गुहार लगाई है।

लोकसभा चुनाव में भाजपा प्रयागराज और आसपास की तीन सीटें गंवा चुकी हैं। कहा जा रहा है कि जिन वजहों से भाजपा का खेल बिगड़ा, उनमें टिकट बंटवारे से लेकर, पेपरलीक और संविधान बदलने की अफवाह के अलावा पार्टी के भीतर भितरघात शामिल है।

कांग्रेस-सपा पर ब्लॉक प्रमुखों के उत्पीड़न का भाजपा विधायक ने लगाया आरोप

 

अविश्वास प्रस्ताव लाए जाने से घबराए ब्लॉक प्रमुखों का नेतृत्व करछना के विधायक पीयूष रंजन निषाद कर रहे हैं। सात ब्लॉक प्रमुखों ने विधायक निषाद के साथ ही इस मुद्दे पर सीएम से मुलाकात की है। पीयूष रंजन ने सपा नेता रेवती रमण सिंह पर इन ब्लॉक प्रमुखों के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का आरोप लगाया है।

सीएम को दिए ज्ञापन में पीयूष रंजन ने कहा है कि लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस-सपा गठबंधन के प्रत्याशी उज्ज्वल रमण सिंह चुनाव जीतने के बाद ब्लॉक प्रमुखों का उत्पीड़न कर रहे हैं और उनके विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव लाया जा रहा है। ऐसे में उनकी रक्षा की जानी चाहिए। जिन ब्लॉक प्रमुखों और उनके समर्थकों ने विधायक के साथ सीएम से मुलाकात की है,उनमें इंद्रनाथ मिश्र, महेंद्र कुमार सिंह, प्रगति सिंह के ससुर अशोक सिंह, सरोज द्विवेदी, गायत्री मिश्रा, मुकेश कोल और अनिल पटेल के नाम शामिल हैं।

About The Author

error: Content is protected !!